गुजरात: दलितों पर अत्याचार नहीं थम रहे, 4 साल में रेप-हत्या और घर फूंकने की वारदातें 35% बढ़ीं

गुजरात में 4 साल में दलितहिंसा के मामले 35% तक बढ़े

गुजरात में 4 साल में दलितहिंसा के मामले 35% तक बढ़े

आरटीआई से प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस गृहराज्य में उच्च जाति के लोगों द्वारा दलित बिरादरी के खिलाफ हिंसा को काफी बढ़ावा दिया गया। 2018 में दर्ज हुए डेढ़ हजार से ज्यादा मामलों में 22 हत्या के, 81 मारपीट के, 7 घरों में आग लगाने और 104 मामले बलात्कार के थे। इसी तरह वर्ष 2014 में कुल 1,122 मामले दर्ज हुए। दलित-अत्याचारों से जुड़े सर्वाधिक मामले कच्छ, महेसाणा जिलों में सामने आए।

पढ़ें: रेप-पीड़ितों का मुआवजा गुजरात सरकार ने किया दोगुना, एसिड अटैक झेल चुकीं महिला का इलाज भी मुफ्त

अहमदाबाद में एक साल में 140 केस दर्ज हुए

अहमदाबाद में एक साल में 140 केस दर्ज हुए

दलित संगठनों का कहना है कि गुजरात में दलित अत्याचार के मामलों में सजा की दर केवल 3% होने की वजह से घटनाएं बढ़ रही हैं। वैसे तो राजनेता स्पष्ट रूप से कहते हैं कि ऐसी घटनाओं को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, लेकिन पुलिस आरोपियों के खिलाफ ठोस कदम नहीं उठा पाती। अकेले अहमदाबाद में ही दलित-हिंसा की एक साल में 140 घटनाएं बतौर केस दर्ज की गईं। जिनमें से 5 हत्या और 8 दुष्कर्म के मामले थे।

पढ़ें: 5 वर्षों में यहां 26,907 महिलाएं गुम हो गईं, 8 हजार किडनैप कर ली गईं और 4 हजार से ज्यादा ने रेप की शिकायत दर्ज कराई

30 गांवों के दलित पुलिस-सुरक्षा में जी रहे

30 गांवों के दलित पुलिस-सुरक्षा में जी रहे

गुजरात पुलिस की एससी-एसटी सेल के मुताबिक, राज्य के 30 गांव ऐसे हैं, जहां बसने वाले दलितों को सुरक्षा दी गई है। जिसमें 20 गांव तो सिर्फ सौराष्ट्र के इलाके से हैं।

पढ़ें: बिन मां की किशोरी से दरिंदगी करते थे 4 लोग, पिता रहता नशे में धुत, प्रेग्नेंट होने के 5 माह बाद एक राहगीर ने समझी वेदना