• Wed. Nov 30th, 2022

24×7 Live News

Apdin News

दिल्ली के पालम में एक ही घर में 4 लोगों की हत्या करने वाला आरोपी केशव पहले भी जेल जा चुका है, उसपर पालम में स्थित एटीम चोरी का आरोप लगा था, केशव ने गुजरात में भी दस्तावेजों के साथ हेरफेर की थी, वह बेरोजगार था, नशे का आदी हो चुका था और उसका ब्रेकअप भी हो चुका था

Byadmin

Nov 24, 2022


नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली के पालम में उसका भी सबकी तरह एक परिवार था। घर में दो बहनें थीं, माता-पिता और बुजुर्ग दादी थीं। लेकिन उसने एक झटके में अपने पूरे परिवार को खत्म कर दिया। घर का चिराग ही अपने परिवार को लील गया। सभी के गले और छाती पर चाकू से इतने वार किए जबतक सबकी मृत्यु नहीं हो गई। पड़ोसियों ने पुलिस को बताया कि उनके पास से घर से चिल्लाने की आवाजें आ रही हैं। जब तक पुलिस पहुंची तब तक सब खत्म हो चुका था। पुलिस को घर के अंदर चार लोग मरे पड़े मिले। बाथरूम और दो कमरों में खून बह रहा था। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी ने घर के शाफ्ट के जरिए कूदकर भागने की कोशिश की। मगर, उसे पकड़ लिया गया। आरोपी के नशे में होने की बात के अलावा यह भी बात सामने आ रही है कि वह पहले भी अपने कर्मों के चलते जेल जा चुका था।

गुजरात में नौकरी की थी, चोरी के आरोप में जेल गया
कई साल पहले केशव गुजरात में एक कंपनी में काम करता था, जहां उसने दस्तावेजों में हेरफेर किया था। बाद में दिल्ली के पालम इलाके में एटीएम में चोरी का भी आरोप उस पर लगा था, जिसमें वह जेल गया था। केशव के पिता की मजबूत कद-काठी को देखते हुए माना जा रहा है कि उसने उन्हें अचानक पीछे से धोखे से मारा। फिर उनके शव को बाथरूम में ले गया। कुलदीप ने बताया कि जब चाचा के घर का गेट अंदर से बंद था, तब वह सपने में भी नहीं सोच सकता था कि अंदर केशव ने सभी की हत्या कर दी है। दादी पहले कुलदीप के परिवार के पास ही रह रही थीं, लेकिन अभी दो दिन पहले ही केशव के घर रहने गई थीं। बोल रही थीं कि दो महीने में वापस आ जाऊंगी।

पहले भी जेल चा चुका है आरोपी केशव

कई साल पहले केशव गुजरात में एक कंपनी में काम करता था, जहां उसने दस्तावेजों में हेरफेर किया था। बाद में दिल्ली के पालम इलाके में एटीएम में चोरी का भी आरोप उस पर लगा था, जिसमें वह जेल गया था। केशव के पिता की मजबूत कद-काठी को देखते हुए माना जा रहा है कि उसने उन्हें अचानक पीछे से धोखे से मारा। फिर उनके शव को बाथरूम में ले गया। कुलदीप ने बताया कि जब चाचा के घर का गेट अंदर से बंद था, तब वह सपने में भी नहीं सोच सकता था कि अंदर केशव ने सभी की हत्या कर दी है। दादी पहले कुलदीप के परिवार के पास ही रह रही थीं, लेकिन अभी दो दिन पहले ही केशव के घर रहने गई थीं। बोल रही थीं कि दो महीने में वापस आ जाऊंगी।

नशे का आदी, बेरोजगार और गर्लफ्रैंड से ब्रेकअप
पालम थाना इलाके के राजनगर पार्ट-2 में हुई एक ही परिवार के चार लोगों की हत्या मामले में परिजनों का कहना है कि गिरफ्तार आरोपी केशव नशे का आदी और बेरोजगार था। उसकी किसी लड़की से दोस्ती थी, जिसमें उसका ब्रेकअप हो गया था। मंगलवार सुबह केशव घर पर आया था। यहां नशा करने के लिए पैसों के लेन-देन और नौकरी ना करने को लेकर इसकी अपने परिवारवालों से कहासुनी हुई। इसके बाद शाम से चार लोगों की हत्या करने का सिलसिला शुरू हो गया।

उसने एक-कर सबकी जान ले ली
परिजनों का कहना है कि लगता है कि केशव ने सबसे पहले सोती हुई दादी को शायद गला घोंटकर मारा। फिर रात करीब 7-8 बजे उसके पिता दिनेश जॉब से घर आए। उसने उन्हें संभलने का अवसर दिए बिना पीछे से मुंह दबाते हुए चाकू से उनका गला काट दिया। फिर कुछ देर बाद आरोपी की मां भी जॉब से आई। उसने अपनी मां से कहा- मम्मी देखो बाथरूम में क्या है। जैसे ही मां बाथरूम में पहुंची, वह अपने पति को खून से सने फर्श पर पड़े हुए देख खुद गिर पड़ी। फिर केशव ने अपनी मां की गर्दन पर भी चाकू चला दिया। इसके बाद रात करीब 9:15 बजे केशव की बहन उर्वशी आई। जैसे ही उसने बाथरूम में देखा, उसने ‘बचाओ बचाओ’ का शोर भी मचाया। लेकिन आरोपी ने उसे भी चाकुओं से गोदकर मार डाला। पिता दिनेश एक कंपनी में ड्राइवर थे, जबकि मां दर्शन एक मेंटल हॉस्पिटल में बच्चों की केयर टेकर थीं।

Palam Murder News: परिवार को खा गया घर का इकलौता चिराग, पालम में बेटे ने परिवार के 4 लोगों की चाकू गोदकर हत्या की

पुलिस को कॉल करने वाले केशव के ताऊ के लड़के कुलदीप ने बताया कि मंगलवार रात करीब 9:15 बजे वह दुकान से घर आया था। उसने उसी समय अपनी कजन उर्वशी की ‘बचाओ बचाओ’ की आवाज सुनी। वह भागता हुआ तुरंत घर की दूसरी मंजिल पर अपने चाचा के घर गया। लेकिन गेट अंदर से बंद था। उसने उर्वशी को आवाज दी। वह नहीं बोली। कुलदीप ने केशव से पूछा कि अंदर क्या हुआ है, उर्वशी क्यों चिल्लाई थी, वह कहां है? केशव ने कहा कि तू चला जा। यह हमारे घर का मामला है। तेरे से क्या मतलब। कुलदीप ने कहा कि तू भी तो मेरा परिवार है। इसके बाद पांच-दस मिनट तक सब शांत रहा। फिर एकदम से धड़ाम की आवाज आई। लगा कि घर के बीच में से शाफ्ट से कोई नीचे कूदा है। वह भागकर नीचे गया। वहां केशव अपने पिता के स्कूटर से भागने की कोशिश कर रहा था। लेकिन उसने उसे पकड़ लिया। फिर पुलिस को कॉल की।

दादी के शव पर नहीं थे चाकू के निशान
पुलिस आई। घर के गेट को झटके से खोलकर अंदर गए तो चारों मृत अवस्था में थे। केशव के माता-पिता और बहन के शरीर पर तो चाकुओं के निशान थे। जबकि दादी के शरीर पर ऐसा कोई जख्म दिखाई नहीं दिया, लेकिन उनके मुंह से खून निकला हुआ था। पुलिस का कहना है कि केशव ग्रैजुएट है। उसके खिलाफ पहले से दो मामले हैं। वह बेरोजगार है और नशा भी करता है। डीसीपी मनोज सी. का कहना है कि तफ्तीश की जा रही है कि परिवार के किस सदस्य को आरोपी ने कैसे और कब-कब मारा। आसपास लगे तमाम सीसीटीवी कैमरे भी चेक किए जा रहे हैं। इनमें घर के तमाम सदस्यों का आना-जाना कैद हुआ है।

परिजनों ने बताया कि केशव चोरी के किसी मामले में करीब डेढ़ साल तक जेल में भी बंद रहा था। वह जमानत पर बाहर था। उसे नशा मुक्ति केंद्र से उसकी मां वापस लेकर आई थी। 3 नवंबर की सुबह केशव अपने तीन दोस्तों के साथ घर आया था और उस दिन भी दादी और मां से उसका पैसे को लेकर झगड़ा हुआ था। पैसे नहीं मिलने पर उसने अपने ताऊ के घर के बाहर लगे इनवर्टर की बैटरी चोरी कर ली थी। यह सब सीसीटीवी कैमरे में कैद है। इसकी पालम थाने में शिकायत भी दर्ज कराई गई थी।

डरे हुए किरायेदार ताला लगाकर गए
इस घर में चार किराएदार रहते हैं, लेकिन वारदात के बाद से सभी डरकर अपने-अपने फ्लैट में ताला लगाकर अपने परिचितों के घर चले गए। कुलदीप का कहना है कि वह धमकी देकर गया है कि जेल में मैं कितने समय रहूंगा, 10 या 15 साल। वहां से आने के बाद तुम सभी को भी मारूंगा।

परिजनों ने बताया कि उर्वशी ने नोएडा स्थित एमिटी से फिजियोथेरेपी में ग्रैजुएशन किया था। उसका अभी 11 नवंबर को ही रिजल्ट आया था, जिससे पूरे परिवार में सब बहुत खुश थे। वह आगे और पढ़ना चाहती थी। मूलरूप से मेरठ जिले का रहने वाला यह परिवार 40 साल से भी अधिक समय से यहां रह रहा है। पुलिस जीप में बैठते वक्त केशव ने वहां खड़े लोगों को धमकाते हुए कहा कि यहां क्या देख रहे हो, क्यों भीड़ लगा रखी है। अपने-अपने घर क्यों नहीं जाते।