लोकसभा चुनाव में बेरोजगारी के मुद्दे ने लोगों को नहीं किया प्रभावित -सर्वे

पोस्ट पोल सर्वे में बेरोजगारी नहीं बन पाया बड़ा मुद्दा

पोस्ट पोल सर्वे में बेरोजगारी नहीं बन पाया बड़ा मुद्दा

जिन लोगों ने आर्थिक मुद्दे, जिसमें बेरोजगारी, जीएसटी के कार्यान्वयन, महंगाई और गरीबी को लेकर चिंता जताई थी। पोस्ट पोल सर्वे में 38 फीसदी से गिरकर 25 फीसदी हो गए। वहीं 12 पोस्ट पोल सर्वे में 12 फीसदी लोगों ने बेरोजगारी को मुख्य मुद्दा माना। पोस्ट सर्वे में इस मुद्दे पर लोगों की राय में 9 फीसदी की गिरावट देखी गई।

'यूपीए को हुआ नुकसान'

‘यूपीए को हुआ नुकसान’

पोस्ट पोल सर्वे में ये गिरावट इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि जिन लोगों ने आर्थिक मुद्दों को लेकर चिंता व्यक्त की थी। उनकी विपक्ष और यूपीए(यूनाइटेड प्रोगेसिव एलायंस) को समर्थन देने की संभावना ज्यादा थी। चुनाव के बाद आए इस सर्वे में ये भी पाया गया कि कांग्रेस के फ्लैगशिप कार्यक्रम न्यूनतम आय योजना(NYAY)को लेकर लोगों में जागरुकता चुनाव के दौरान बढ़ी। लेकिन गरीबों के वर्ग जिसे इसका सबसे ज्यादा फायदा होना था, उस तक पूरी तरह इस योजना की जानकारी नहीं पहुंच पाई।

ये भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश लोकसभा चुनाव 2019 की मुख्य खबरें

राफेल को मुख्य मुद्दा बनाने की रणनीति सही नहीं

राफेल को मुख्य मुद्दा बनाने की रणनीति सही नहीं

द हिंदू- CSDS-लोकनीति के सर्वे के मुताबिक राफेल डील में भ्रष्टाचार को मुख्य राजनीतिक मुद्दा बनाने की कोशिश करना कांग्रेस की सही रणनीति नहीं थी। सर्वे में पाया गया कि केवल आधे लोगों को ही राफेल के विवाद के बारे में पता था जबकि आधे से कम लोगों ने माना कि सरकार ने गलत काम किया है। इससे साफ होता कि राफेल विवाद को मुद्दा बनाने का कांग्रेस पर अपेक्षित नहीं प्रभाव पड़ा।