• Sun. May 19th, 2024

24×7 Live News

Apdin News

हिंदू और मुसलमान: इस्लामिक देशों में साथ रहने पर सोच कैसे बदलती है?

Byadmin

May 13, 2024


क़तर
इमेज कैप्शन, राजन शर्मा (बाएं) और मोहम्मद वसीम (दाएं) क़तर की राजधानी दोहा में रूममेट हैं.

रामेश्वर साव बिहार के औरंगाबाद में जिस गाँव के हैं, वहाँ कोई भी मुस्लिम परिवार नहीं रहता है. आसपास के गाँवों में भी मुसलमान नहीं हैं.

पढ़ाई के दौरान भी किसी मुसलमान से मुलाक़ात नहीं हुई. कम उम्र में शादी के बाद ज़िम्मेदारियाँ बढ़ीं तो रोज़गार का संकट खड़ा हुआ. 2015 में रामेश्वर को रोज़गार की तलाश में सऊदी अरब जाना पड़ा.

हिंदू बहुल गाँव, समाज और देश में रह रहे रामेश्वर साव के लिए इस्लामिक देश सऊदी अरब पहुँचना उनकी ज़िंदगी की अहम घटना थी.

रामेश्वर बताते हैं कि जल्द ही मुसलमान उनके रूममेट बन गए. कुछ मुसलमान भारत के थे और कुछ पाकिस्तान के.

By admin